एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट को लेकर बहुत से स्टूडेंट्स के बीच इस वक्त असमंजस की स्थिति बनी हुई है और इस ब्लॉग में हम आपको इसके बारे में जानकारी दे रहे हैं, ताकि आपकी सभी शंकाएं दूर हो सकें। हाल ही में NMC की तरफ से यह नोटिफिकेशन जारी किया गया था कि एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट के लिए आवेदन करने की अंतिम तारीख 31 मार्च, 2022 है। ऐसे में सबसे पहले तो आप यह जान लें कि 31 मार्च अंतिम तारीख उन स्टूडेंट्स के लिए है, जो जून, 2022 में FMGE एग्जाम में शामिल होने जा रहे हैं।

eligibility certificate

वापस नहीं मिलेगा पेमेंट

इसके बाद दूसरी चीज यह है कि ऐसे स्टूडेंट्स, जो कि 2018 और 2019 बैच के हैं और उन्होंने NEET क्वालीफाई किया हुआ है, ऐसे स्टूडेंट्स को NMC के पोर्टल पर जाकर एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट के लिए आवेदन करने की जरूरत नहीं है। यदि आप इसके लिए आवेदन कर चुके हैं, तो क्या आपको पैसे रिफंड मिलेंगे? बहुत से स्टूडेंट्स ने यह सवाल किया है। इसी तरह के सवालों को लेकर हमारी ओर से नेशनल मेडिकल कमिशन (NMC) के पास आरटीआई फाइल की गई थी। हमने उनसे यह पूछा था कि जिन स्टूडेंट्स ने NEET क्वालीफाई किया हुआ है और उन्होंने आवेदन किया था, उनके पास यह ई-मेल आया हुआ है कि उनका एप्लीकेशन रिजेक्ट कर दिया गया है, क्योंकि वे नीट क्वालिफाइड हैं। क्या उनके पैसे वापस मिलेंगे? इसका जवाब अब हमें मिल गया है। इसमें यह बताया गया है कि एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट को लेकर किया गया किसी भी तरह का पेमेंट वापस नहीं किया जाएगा। यह नॉन-रिफंडेबल है। इसलिए आपने जो एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट के लिए वहां भुगतान कर दिया है, वह आपको वापस नहीं मिलने वाला।

इस ईयर का करें जिक्र

इसके अलावा कई स्टूडेंट्स ने यह सवाल भी किया था कि जो स्टूडेंट्स फिलीपींस या कैरेबियन आइसलैंड या ऐसी जगह पढ़ रहे हैं, जहां पहले प्री-मेडिकल या उनका कोई अन्य कोर्स चलाया जाता है और उसके बाद ही मेडिकल की पढ़ाई शुरू होती है, तो उनको एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट के लिए कौन-से ईयर का जिक्र करना है। उन्हें BS वाले कोर्स का जिक्र करना है या फिर MD वाले ईयर के बारे में बताना है। तो आप यह जान लें कि बीएस कोर्स प्री-मेडिकल कोर्स है, जो कि एमडी में शामिल नहीं किया जाता है। इसलिए आप उस ईयर का जिक्र कीजिए, जिसमें आपको एमडी में प्रवेश मिला है। एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट के लिए आपको इसी का जिक्र करना पड़ेगा।

इसका है इंतजार

कई स्टूडेंट्स का यह सवाल भी रहा है कि उन्होंने ट्रांसफर करवा लिया है। पहले वे किसी और यूनिवर्सिटी में थे। अब वे दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए चले गए हैं। ऐसे में उन्हें एलिजिबिलिटी सर्टिफिकेट के लिए आवेदन करने के दौरान कौन-सी यूनिवर्सिटी की डिटेल्स भरनी पड़ेगी। वहां एक ही यूनिवर्सिटी का नाम भरने का विकल्प आता है। दो यूनिवर्सिटी का नाम वे नहीं भर सकते हैं। इसी सवाल को लेकर हमने आरटीआई भी फाइल की है और इसे फाइल किए हुए लगभग डेढ़ महीने का वक्त बीत चुका है, लेकिन अब तक नेशनल मेडिकल कमिशन की तरफ से हमें उस आरटीआई का जवाब नहीं मिला है। इसलिए वे सभी स्टूडेंट्स जो जून के बाद एग्जाम में शामिल होने वाले हैं, वे फिलहाल थोड़ा इंतजार कर सकते हैं। तब तक हमारे पास NMC से जवाब आ जाएगा। वहीं, जो स्टूडेंट्स जून, 2022 में परीक्षा देने जा रहे हैं और उन्होंने अपने कॉलेज को बदला है, तो उनके पास 31 मार्च तक आवेदन करने का समय है। तो ऐसे में वे 1 या 2 हफ्ते तक और इंतजार कर सकते हैं।

वह इसलिए कि फोन कॉल्स पर जो हम जानकारी लेते हैं, उसे ऑथेंटिक नहीं कहा जा सकता है। हमारे पास लिखित में प्रमाण होना जरूरी होता है। इन सबके अलावा भी यदि आपके मन में किसी भी तरह की कोई शंका है या आप कोई अन्य जानकारी चाहते हैं, तो आप हमसे हमारे व्हाट्सएप नंबर 9772378888 पर भी चैट कर सकते हैं। इंस्टाग्राम पर आप हमें फॉलो कर सकते हैं। हमारे यूट्यूब चैनल को आप सब्सक्राइब कर सकते हैं। आपकी मदद करके हमें हमेशा खुशी का ही अनुभव होता है।

YouTube

Already have an account? Log in