बहुत से ऐसे स्टूडेंट्स हैं, जिन्होंने वर्ष 2019 में NEET क्वालीफाई किया था और अब वे इस साल यानी कि 2022 में जनवरी, फरवरी या मार्च में विदेश में एमबीबीएस में एडमिशन लेने जा रहे हैं और उन्हें यह बताया जा रहा है कि उनके सेशन की शुरुआत वर्ष 2021 से होगी। आपकी जानकारी के लिए हम आपको यह बता देना चाहते हैं कि यह पूरी तरीके से गलत है। इसकी वजह यह है कि वर्ष 2019 में जो आपने NEET क्वालीफाई किया था, उसके अंक 3 साल तक ही वैलिड रहते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि ये अंक आपके वर्ष 2019, 2020 और वर्ष 2021 के लिए ही वैलिड थे। अब यदि आप इस साल वर्ष 2022 में जनवरी, फरवरी या मार्च में चीन, यूक्रेन, रुस या अन्य किसी भी देश में एमबीबीएस में एडमिशन ले रहे हैं, तो आप यह जान लें कि आपके 3 साल बीत गए हैं। वर्ष 2022 में आप एडमिशन लेने की भूल न करें।

mbbs abroad without NEET

NEET के स्कोर की वैलिडिटी

कुछ स्टूडेंट्स के माध्यम से हमें यह जानकारी मिली है कि उनके कंसल्टेंट्स द्वारा उन्हें यह बताया गया है कि वे वर्ष 2022 में एडमिशन ले सकते हैं, क्योंकि इस साल मई, जून या जुलाई, जब तक NEET का एग्जाम नहीं होता है, तब तक पहले का स्कोर वैलिड रहेगा। इसका जिक्र कहीं पर भी नहीं है। इसके बारे में हमें कहीं पर भी पढ़ने को नहीं मिला है। यदि इस तरह की कोई बात है और इसके बारे में आपके पास कोई पुख्ता जानकारी है, तो इससे संबंधित डाक्यूमेंट्स आप हमसे शेयर कर सकते हैं, जिसमें यह लिखा हुआ हो कि जब तक अगले NEET का आयोजन नहीं होता है, तब तक यह वैलिड रहेगा।

इनके लिए परेशानी नहीं

यह जो हम आपको बता रहे हैं, यह हमारी जानकारी के अनुसार है। हो सकता है कि ऐसा नहीं हो। इसलिए हमारा आपसे यह आग्रह है कि आप हमें कोई ऐसा डॉक्यूमेंट उपलब्ध करा दें, जिसमें यह लिखा हुआ हो कि जब तक वर्ष 2022 में NEET नहीं लिया जाता है, तब तक 2019 का स्कोर वर्ष 2020, 2021 और 2022 में भी NEET के आयोजन तक वैलिड रहेगा। ऐसे स्टूडेंट्स, जिन्होंने वर्ष 2020 या 2021 में मार्च या सितंबर बैच में एडमिशन लिया है और जिन्होंने वर्ष 2020 या 2021 में NEET क्वालीफाई किया है, तो उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होने वाली है।

इस सलाह पर करें अमल

इस बीच कुछ स्टूडेंट्स को यह बताया गया है कि दिल्ली हाईकोर्ट ने पिछले साल 1 वर्ष की राहत दी थी कि 2020 में NEET क्वालीफाई नहीं करने वाले स्टूडेंट्स एडमिशन ले सकते हैं और 2021 में उन्हें NEET क्वालीफाई करना होगा। ऐसे में जो स्टूडेंट्स NEET क्वालीफाई करने में नाकामयाब रहे हैं, उन्हें हमारी ओर से यही सलाह है कि वे अपनी एजुकेशन को बीच में ही रोक दें। आपके लिए बेहतर यही होगा कि आप NEET क्वालीफाई पहले कर लें और उसके बाद ही आप अपनी मेडिकल की स्टडीज फिर से करें।।यह सुनना बहुत ही आसान होता है कि हम उसी देश में काम कर लेंगे। इसके अलावा भी और भी कई तरह के सपने कंसल्टेंट्स दिखाने का काम करते हैं। मगर उन्हें तो वास्तव में बस अपने पैसे दिखते हैं। आपकी जो मोटी रकम खर्च हो रही है, आपकी जो क्षमता है, आपका जो भविष्य है, ये सारी चीजें उन्हें नजर नहीं आतीं। या फिर यूं कहें कि उन्हें इन चीजों की परवाह ही नहीं होती।

अपने देश में ही करें प्रैक्टिस

बहुत से स्टूडेंट्स कहते हैं कि हमने बांग्लादेश, रुस, कजाकिस्तान या जिस भी देश में मेडिकल की पढ़ाई की है, हम वहीं आगे प्रैक्टिस कर लेंगे, लेकिन उन्हें यह सोचना चाहिए कि उनके पैरेंट्स उन्हें दूसरे देश में भेजकर मेडिकल की पढ़ाई इसलिए करवा रहे हैं, ताकि वे अपने देश लौटकर यहां प्रैक्टिस कर सकें। ताकि उनके पेरेंट्स भी समाज के सामने सीना तान कर कह सकें कि उनके बच्चे यहां डॉक्टर बनकर सेवा दे रहे हैं। इसकी वजह यह है कि इस पेशे में खूब पैसे तो मिलते ही हैं, साथ में मान-सम्मान भी खूब मिलता है। यहां डॉक्टरों को भगवान का दर्जा दिया गया है।

सोच-समझकर करें फैसला

यदि आप दूसरे देश में रहकर प्रैक्टिस करते हैं, तो ऐसे में यहां आपके पैरेंट्स को कौन संभालेगा, इस बारे में वास्तव में सोचने की जरूरत है। आप सोचते हैं कि आप रुस में, कजाकिस्तान में रहकर वहां प्रैक्टिस करेंगे, लेकिन आप ही सोचिए कि जब आप वहां 5 साल की भी मेडिकल की पढ़ाई करते हैं, तो एक साल में दो से तीन बार आपको घर आना पड़ता है, लेकिन जब आप वहां पर नौकरी करना शुरू कर देंगे, जब आप परेशान हो जाएंगे, तब आपको समझ में आएगा कि आप ने क्या कर दिया। इसलिए हमारी ओर से आप को यही सलाह होगी कि जिंदगी भर किसी और देश में काम करने की बजाय आप एक साल यहीं दे दीजिए। आप NEET क्वालीफाई करें और इसके बाद आप विदेश में एडमिशन लें। आप यह अच्छी तरह से समझ लें कि इसमें कंसल्टेंट्स का कुछ भी नहीं जाने वाला है। आज ये आपके साथ हैं, लेकिन कल ये आपके साथ नहीं होंगे ।5 साल के बाद जब आप आएंगे और आप कोई काम कर रहे होंगे, तो ये आपको नहीं मिलेंगे। वह इसलिए कि जो लोग स्टूडेंट्स का भला नहीं चाहते हैं, वे ज्यादा लंबे समय तक काम नहीं कर पाएंगे।

ऐसे में उस वक्त आपके साथ स्थिति यह होगी कि आप समझ नहीं पाएंगे कि अब करना क्या है। आप यदि कुछ करेंगे, तो फिर यह इलिगल हो जाएगा। अंत में हम आपसे यही बताना चाहेंगे कि पैसे आपके हैं। भविष्य आपका है। निर्णय आपको ही लेना है, लेकिन यदि आप सही निर्णय लेंगे, तो यह आपके भविष्य के लिए सही रहेगा। यदि आपके मन में किसी भी तरह की कोई भी शंका है, तो आप कमेंट सेक्शन में या चैट बॉक्स में आकर हमसे संपर्क कर सकते हैं। आपकी मदद करके हमें हमेशा खुशी का ही अनुभव होता है।

YouTube

Already have an account? Log in