नेशनल मेडिकल कमिशन (NMC) का जो नया गैजेट नोटिफिकेशन आया है, उसे लेकर स्टूडेंट्स के बीच इस वक्त असमंजस की स्थिति बनी हुई है। स्टूडेंट्स यह जानना चाह रहे हैं कि यदि उन्होंने 1 अक्टूबर, 1 नवंबर या 1 दिसंबर को एडमिशन लिया है, तो इस गजट नोटिफिकेशन का उनके ऊपर क्या प्रभाव पड़ने वाला है। जैसा कि हम सभी जान रहे हैं कि NMC का नया गजट नोटिफिकेशन पिछले 18 नवंबर को आया है। यह 18 नवंबर से ही लागू भी हुआ है।

nmc gazzette

नए गजट नोटिफिकेशन को यूं समझें

अब आप यहां पर एक केस स्टडी के जरिए यह समझिए कि किस तरीके से यह आपको प्रभावित करने वाला है। मान लीजिए कि आपने कजाकिस्तान की किसी मेडिकल यूनिवर्सिटी में बीते अक्टूबर या नवंबर में एडमिशन लिया है। तो इसका मतलब यह हुआ कि आपकी डिग्री की शुरुआत अक्टूबर या नवंबर से मानी जाएगी। यदि आपने किसी यूनिवर्सिटी में जनवरी या फरवरी में एडमिशन लिया है, तो आपकी डिग्री यानी कि सेशन या सत्र की शुरुआत जनवरी या फरवरी से मानी जाएगी। यह आपके लिए जरूरी इसलिए हो जाता है, क्योंकि डिग्री की अवधि की शुरुआत कब से हो रही है, यह बहुत ही महत्वपूर्ण है।

एडमिशन लेटर के चक्कर में न उलझें

जहां तक एडमिशन लेटर की बात है, वह तो आपको बहुत से कंसल्टेंट्स बैक डेट यानी की पीछे की तारीख में भी दे दे रहे हैं। वे आपको 1 अगस्त का भी एडमिशन लेटर दे सकते हैं। वे आपको 1 जनवरी, 2021 का भी एडमिशन लेटर दे सकते हैं। यह वास्तव में कोई बड़ी चीज नहीं है। आपके लिए सबसे जरूरी चीज यही है कि आपकी डिग्री की अवधि यानी कि इसका ड्यूरेशन कब से शुरू हो रहा है। उदाहरण के लिए कोई एक ऐसा स्टूडेंट है, जिसका एडमिशन लेटर भले ही 1 नवंबर का बना हुआ है, लेकिन उसके सेशन की शुरुआत जनवरी से होने जा रही है, तो उसकी डिग्री की शुरुआत यानी कि उसका सेशन एक जनवरी, 2022 से लिखा जाएगा। इसके अनुसार वह स्टूडेंट एनएमसी के नए गजट नोटिफिकेशन के दायरे में आ जाता है।

वहीं, यदि आपका एडमिशन लेटर भले ही 20 नवंबर का होगा, लेकिन यदि आपके डिग्री सेशन की शुरुआत पिछले सितंबर या अक्टूबर से हो गई होगी, तो वहां आप बच जाएंगे। यह एक छोटी सी चीज थी जो एनएमसी की तरफ से छूट गई थी। आपकी डिग्री जब पूरी हो जाएगी तो आपके डिग्री सर्टिफिकेट में यही लिखा हुआ होगा। तो यूनिवर्सिटी आपको आपका एडमिशन लेटर 6 साल के बाद भी उसके मुताबिक दे सकती है, लेकिन इस वक्त जो बैक डेट का खेल चल रहा है, उसके चक्कर में यदि आप न ही पड़ें, तो आपके लिए बेहतर होगा।

आपको बस इसका रखना है ध्यान

आपको बस यह देखना है कि आपके सेशन की शुरुआत कब से हो रही है। आपकी डिग्री की शुरुआत की तारीख क्या है। इससे ज्यादा महत्वपूर्ण आपके लिए और कुछ भी नहीं है। एडमिशन लेटर की तारीख पर जाने की भूल आप बिल्कुल भी न करें। एडमिशन लेटर को तो एडिट भी कर दिया जाता है। जब कुछ धोखा देने वालों को बीएस और एमडी को भी आपस में मिलाने में वक्त नहीं लगता और वे बीएस में एक साल पहले एडमिशन करा देते हैं, तो यह मान लेना चाहिए कि वे कुछ भी कर सकते हैं। इसलिए चाहे आप जिस देश में भी एडमिशन लें, यदि आपके सेशन की शुरुआत 2022 के जनवरी या फरवरी से हो रही है, तो निश्चित रूप से आप इस गजट नोटिफिकेशन के दायरे में आ रहे हैं। चाहे आपका एडमिशन लेटर कभी का भी क्यों न हो।

फैसला आपके हाथों में

यह हमारा आकलन और हमारा विश्लेषण यानी कि एनालिसिस है। इसमें थोड़ी बहुत ऊंच-नीच हो सकती है और इस बारे में निर्णय आपको ही लेना है। जाहिर सी बात है कि आप इतना विवेक रखते हैं। आपको ही यह तय करना पड़ेगा कि कौन सी बात सही कही जा रही है, क्योंकि एडमिशन लेटर में एडिटिंग की पूरी गुंजाइश रहती है, लेकिन डिग्री सर्टिफिकेट में कोई एडिट नहीं हो सकता, क्योंकि वह यूनिवर्सिटी और मिनिस्ट्री की तरफ से मिलेगी। इस तरीके से आपको यह देखना है कि यदि आपका सेशन 2021 का है, तो आप इस गजट नोटिफिकेशन के दायरे से बाहर हो जाते हैं, लेकिन यदि आपका सेशन 2022 का है, तो आप बिल्कुल गजट नोटिफिकेशन के दायरे में हैं।

ऐसे में अब आप जहां पर भी एडमिशन लेने जा रहे हैं, आपका प्रयास यही होना चाहिए कि आप सरकारी यूनिवर्सिटी या कॉलेज में ही एडमिशन लें और आपकी कोशिश यह भी होनी चाहिए कि आप अपने मूल दस्तावेजों यानी कि ओरिजिनल डाक्यूमेंट्स को जमा करने से बचें।

न पड़ें ठगों के चक्कर में

पैरेंट्स और स्टूडेंट्स के फोन कॉल्स हमारे पास इस संबंध में आ रहे हैं कि हमने एडमिशन करवा लिया था। हमने इतने लाख रुपये भी दे दिए थे। अब जब हम अपना एडमिशन वापस ले रहे हैं, तो कंसल्टेंट्स हमसे यह कह कर पैसे मांग रहे हैं कि हमारे इतने पैसे खर्च हो गए हैं। वास्तव में यदि ऐसा है तो इन कंसल्टेंट्स की ओर से उसकी रिसिप्ट उपलब्ध कराई जानी चाहिए। जब वीजा पर मुहर नहीं लगी। एंबेसी जब खुली ही नहीं है, तो खर्च आखिर किन चीजों पर हुआ है?

सभी लोगों के पैसे कमाने के तरीके अलग-अलग हैं। कुछ लोग अनैतिक तरीके से भी ऐसा करते हैं। यह गलत है और इस पर हम ज्यादा कुछ तो नहीं कहना चाहेंगे, लेकिन हां पेरेंट्स को अब यह देखना होगा कि वे किस तरीके से अपने पैसे वापस निकाल पाते हैं। आपको हमारी यही सलाह होगी कि कोई भी कदम पूरी सावधानी के साथ उठाएं, ताकि कोई आपको ठग नहीं सके। आपके सुझाव और आपके अनुभवों का हम हमेशा स्वागत करते हैं।

YouTube

Already have an account? Log in